हमारे स्वास्थ्य में रसोई का विशेष योगदान होता है ,यदि रसोई में मौजूद मसालों और अन्य खाद्य पदार्थों का सही मात्रा और उचित उपयोग किया जाए तो ,बढ़िया स्वाद के साथ बढिया स्वास्थ्य भी प्राप्त किया जा सकता है

रविवार, 4 मार्च 2012

प्याज़


प्याज़ हमारे भोजन का एक मुख्य अंग है इसे लगभग हर एक सब्जी में इस्तेमाल किया जाता है ,प्याज़ को सलाद के रूप में भी खाया जाता ,गर्मियों में प्याज़ खाने से लू लगने का खतरा नहीं रहता ,प्याज़ खाने से हमारी पाचन शक्ति मजबूत होती है 
जब प्याज़ को कच्चा खाया जाये तो एक विशेष बात का ध्यान रखना चाहिए  के प्याज़  छोटा हो ,इसका कारण ये है के प्याज़ की हर एक परत में एक पारदर्शी झिल्ली होती है , जिसे पचा पाना बहुत मुश्किल होता है, लेकिन छोटे प्याज़ में वो काफी मुलायम होती है जो की आसानी से पचाई जा सकती है और उस से हमारे पाचन संस्थान को कोई हानि नहीं पहुँचती.इस लिए हमेशा कोशिश करनी चाहिए के कच्चा प्याज़ जब भी खाया जाये छोटा प्याज़ ही इस्तेमाल में लिया जाए , मैं हमेशा खाने के लिए प्याज़ अलग से ही खरीदती हूँ जो की काफी छोटे होते है.
प्याज़ के अन्य उपयोग 
---------------------------
एक चम्मच शहद में प्याज़ के रस की कुछ बूंदें डाल कर खाने से नजला ठीक होता है 

प्याज़ का एक चम्मच रस दिन में तीन बार तीन महीने लगातार पीने से पथरी गल कर निकल जाती है 

प्याज़ का रस फोड़े फुंसियों पर लगाने से वो शीघ्र ठीक हो जाते है 


हवा से शीघ्र फैलने वाले रोग (contageous disease ) में प्याज़ को आस पास काट कर या घर के दरवाज़े पर लटका कर रखना चाहिए ,इसकी महक से  कीटाणुओं का नाश होता है!

जब भी जुकाम हो जाये प्याज को काटकर  ३ बार ,१० ,१० मिनट तक सूंघें ,जुकाम के कीटाणु का नाश   होगा !

खाने के साथ प्याज ( छोटे प्याज ) जरूर खाएं !   खाने से १० मिनट  पहले  प्याज काटकर निम्बू और नमक ड़ालकर रख लें , या सिरके में ड़ालकर खाएं   , टमाटर खीरे के सलाद के साथ या फिर ऐसे खाएं ,ये चीजें हर गृहणी को याद रखनी   चाहिए  के भोजन कई छोटी छोटी चीजों को मिला कर बनता है पर हर  चीज का अपना महत्व होता है ,  शरीर के लिए बहुत जरूरी होती  है ये  चीजें !


-------------------------------------------------------------------

हरी प्याज
-------------

 स्प्रिंग अनियन, एक बहुत लोकप्रिय सब्‍जी है और ये कई किस्‍मों जैसे - सफेद, पीली और लाल में पैदा होती है। ये प्‍याज, स्‍वाद में बहुत अच्‍छे होते है और इनमें पोषक तत्‍व भी भरपूर मात्रा में होते है। काफी लंबे समय से, स्प्रिंग प्‍याज का इस्‍तेमाल चाइनीज दवाईयों में किया जाता है। इस प्‍याज में सल्‍फर भी ज्‍यादा मात्रा में होता है। सल्‍फर की ज्‍यादा मात्रा, शरीर के लिए लाभप्रद होती है। इस तरह के प्‍याज कैलोरी में लो होते है। स्प्रिंग प्‍याज को हरा प्‍याज भी कहा जाता है।
हरा प्‍याज, विटामिन सी, विटामिन बी2 और थियामाईन से भरपूर होता है। इसमें विटामिन ए और विटामिन के भी होता है। इसके अलावा, यह कॉपर, फास्‍फोरस, मैग्‍निशयम, पौटेशियम, क्रोमियम, मैंगनीज और फाइबर का भी अच्‍छा स्‍त्रोत होता है। हरा प्‍याज, फ्लैवोनॉड्स जैसे - कैवेरसेटिन का भी मजबूत स्‍त्रोत होता है।


विशेष :-  यदि आप के बाल झड़ते हों तो एक महीने तक ये प्रयोग जरूर जरूर आजमायें ! 2  प्याज को घिस कर निचोड़ लें  उस रस  में रुई भिगो कर बालों की जड़ों में धीरे धीरे लगाइये ,बालों की जड़ों में अच्छी तरह लग जाये तो २,३ घण्टे बाद सर को धो कर साफ़ कर लें ,एक महीने तक ये प्रयोग जरूर करें बाल झड़ने बंद हो जायेगे ,बाल लम्बे करने के लिए भी ये प्रयोग काफी काम करता है ,बस एक दिक्क्त है के प्याज की बदबू सर से जाती नहीं है ,पर कोई बात नहीं एक महीने झेल लें :)  बाल झड़ रहे  तो बंद हो जायेगे ,जो  झड़ चुकें है उनमे से भी काफी वापस आ जायेगे , प्रयोग शुरू करने से पहले फोटो जरूर निकाल लें आप को समझने में सहायता मिलेगी के पहले कितने बाल थे और बाद में कितने आ गए 



10 टिप्‍पणियां:

  1. धन्यवाद अवन्तिजी ...एक बात और, छोटे प्याज कच्चे खाने में, मीठे भी लगते हैं उन में वोह तेज़ी नहीं होती

    उत्तर देंहटाएं
  2. दक्षिण भारतीय मसालों में प्रयुक्त बेबी ओनियन कैसे हैं ?अच्छा आलेख आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह...

    अच्छा ब्लॉग....बढ़िया जानकारी...
    शुक्रिया अवंति जी...
    आज से फोलो करती हूँ....और स्वस्थ रहूंगी :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. आवश्यक जानकारी दी आपने !
    रंगोत्सव की शुभकामनायें स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं