हमारे स्वास्थ्य में रसोई का विशेष योगदान होता है ,यदि रसोई में मौजूद मसालों और अन्य खाद्य पदार्थों का सही मात्रा और उचित उपयोग किया जाए तो ,बढ़िया स्वाद के साथ बढिया स्वास्थ्य भी प्राप्त किया जा सकता है

सोमवार, 18 फ़रवरी 2013

खट्टे पदार्थ



हम लोगों के यहाँ यानि भारत में  पहले जो भोजन बनाया जाता था वो आयुर्वेद की दृष्टि से स्वास्थ के लिए हितकर था और शरीर के लिए उत्तम था किन्तु जब से हम लोगों के भोजन पर पाश्चात्य देशों में बनाये जाने वाले भोजन का असर आने लगा है हम लोग भोजन की गुण धर्मिता  के बारे में भूलने लगे है कुछ पदार्थ एक दुसरे के साथ नहीं खाए जा सकते जैसे दूध और मुली ,प्याज  और दूध इस के बारे में हम सब जानते है किन्तु आयुर्वेद में किसी भी खटाई को एक साथ खाना भी मना है इस बारे में लोगों की जानकारी कम है पहले नानी या दादी इस बारे में कहा करती थी पर अब लगभग ये ज्ञान विलुप्त हो चुका  है,कुछ ही लोग इस बारे में जानते है !

निम्बू ,टमाटर ,इमली और आम और दही  ये मुख्य  खट्टे पदार्थ है जिन्हें   हम अपने भोजन को खटास देने के लिए उपयोग में लाते है इन में से किसी भी पदार्थ को एक साथ उपयोग में लेन पर ये धीमे जहर का काम करते है और हमारे शरीर में कई रोग भी उत्पन्न करते है इन का असर इतना धीमा होता है के हम जान भी नहीं पाते  के खाने विषमता के कारण  हम  रोग से ग्रसित हुए है हर कुशल गृहणी को इस बात का ध्यान रखना चाहिए और इन में से किसी भी खटाई  का एक साथ उपयोग नहीं करना चाहिए और आने वाली पीढ़ी को भी ये जानकारी देनी चाहिए ,आजकल बाहर बनाये जाने वाले खानों में इस का ध्यान नहीं रखा जाता यहाँ तक के कई प्रसिद्ध कुकरी शो /किताबों में भी 2 या 3 तरह की खटाई  का एक साथ उपयोग दर्शाया जाता है ये बिलकुल गलत है और हानिकारक है  इस पर अमल करने  से बचे और अपने परिवार  के स्वास्थ्य की रक्षा करें 

5 टिप्‍पणियां:

  1. सच कहा आपने, हमारे स्वास्थ्य के सूत्र हमारी पुराने रसोईघरों में छिपे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जानकारी के लिए शुक्रिया, ऐसे ही लेख और पढ़ना चाहेंगे..ये जानकारी सबके लिए हितकर है। मेरे ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया...आपका ब्लॉग ऊर्जा भी बहुत अच्छा लगा..मेरा प्रिय विषय है पर मैं वहां comment नहीं कर सकी। शुभकामनाओं आपको। यहां भी आएं http://theparulsworld.blogspot.in , प्रतीक्षा में...

    उत्तर देंहटाएं